प्रांतीय संगठन मंत्री करेंगे शिविर का शुभारंभ

0
297

चित्त अर्थात मन की वृत्तियों-तरंगों को रोकना ही योग है। योग के अन्तिम चरण समाधि में अवस्थित होने के लिए मन की एकाग्रता नितांत आवश्यक है।योग साधना में चित्त की वृत्तियों को रोक करके बहिर्मुखी वृत्ति बन्द होकर अंतर्मुखी वृत्ति अपना काम करने लगती है। विषयों में बाहर फैली हुई वृत्तियों को भीतर की ओर अथवा मन और इन्द्रियो की वृत्तियों को विषयों से रोककर या मोड़ कर भीतर की ओर ले जाना जीवात्मा के अधीन है।
उक्त विचार परम पूज्य वीतराग स्वामी केवलानन्द सरस्वती जी ने दिये जो पिछले 26 वर्षो से ध्यान साधना केंद्र अभ्यास की कार्यशैली के विषय में प्राणपन्न एवं एकाग्रता से लगे हुए हैं।इसका अभ्यास कैसे किया जाए और इसे कैसे साधा जाए इस प्रशिक्षण के सिद्धहस्त है ।हम सब का प्रभु प्रदत्त सौभाग्य है कि सात दिवसीय निःशुल्क ध्यान व योग प्रशिक्षण शिविर उन्हीं के सानिध्य में दिनांक 28मार्च से 2अप्रैल तक स्थानीय ग्रीन फील्ड हाई स्कूल(निकट स्पोटर्स स्टेडियम) सूरज विहार मुजफफर नगर में आयोजित किया जाएगा। शिविर का समय प्रातः 5:30बजे से 7:00बजे तक तथा सायं 5:00बजे से 6:30बजे तक (प्रतिदिन) रहेगा ।उक्त शिविर विशेषकर युवाओं के लिए बहुत ही उपयोगी रहेगा ।शिविर का उद्घाटन योगीज⛳️सेना के प्रान्तीय संगठन मंत्री सुरेन्द्र पाल सिंह आर्य(योगाचार्य) करेंगे।

योगीज⛳️सेना के कार्यकर्ता ,पदाधिकारी

साइबर-सैनिक बनने के लिए यहां क्लिक करें 👇

JOIN🇮🇳YOGIS⛳️SENA

CYBER SAINIK PLZ SHARE FOR 🇮🇳🕉️⛳️
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here